thumb

साल सदियों पुराना पक्का घर है

साल, दिखता नहीं पर पक्का घर है हवा में झूलता रहता है तारीखों पर पाँव रख के घड़ी पे घूमता रहता है बारह महीने और छह मौसम हैं आना जाना रहता है एक ही कुर्सी है घर में एक उठता है इक बैठता है जनवरी फ़रवरी बचपन ही से भाई बहन से लगते हैं ठण्ड बहुत लगती है उन को कपड़े गर्म ...

4

January 1, 2011

thumb

बंजारा नमक लाया

प्रभात की कविताओं की नई किताब ’बंजारा नमक लाया’ आई है. प्रभात हमारा दोस्त है. प्रभात की कविताएं हमारी साँझी थाती हैं. हम सबके लिए ख़ास हैं. कल पुस्तक मेले में ’एकलव्य’ पर उसकी नई किताब मिली तो मैं चहक उठा. आप भी पढ़ें इन कविताओं को, इनका स्वाद लें. मैं ...

10

February 6, 2010

thumb

बीत चुके हैं अब युग शहरों के

पिछले दिनों अपने शोध के सिलसिले में फ़िल्म दर फ़िल्म दिल्ली शहर की संरचना को परखते हुए रिल्के की कविताओं से मुलाकात हुई. साहित्य अकादेमी से प्रकाशित अपने अनुवाद में अनामिका उन्हें ’औरतों की मेज़ का कवि’ कहती हैं. यहाँ दर्ज कविता अब मेरे शोध प्रबंध का हिस्सा है. रिल्के ...

1

February 27, 2009

thumb

‘आप उसे फोन करें’: बद्री नारायण

बद्री नारायण की कविताएं मेरे जीवन में एक घटना की तरह आती हैं. मैं उन्हें व्यवस्थित रूप से नहीं पढ़ता. वे आती हैं, अनिश्चितता और तनाव के क्षणों में वे एक छोटी सी उदास खुशी की तरह आती हैं. अचानक, जैसे हृषिकेश मुखर्जी की 'बावर्ची' में रघु भैया आते हैं. ...

8

October 1, 2008