4

सुंदर का स्वप्न : शिप अॉफ थिसियस

शायद किराये के मकानों में ऐसा अक्सर होता है। जिस घर में हम रहने अाये, उसकी दीवारों पर पिछले रहनेवालों के निशान पूरी तरह मिटे नहीं थे। ख़ासकर बच्चों की उपस्थिति के निशान। कमरे की दीवारों पर रंग बिरंगी पेंसिल की कलाकारियाँ अौर अलमारियों पर सांता क्लाज़ के स्टिकर। अौर उससे भी कमाल था बाथरूम की एक अलमारी पर अनगिनत स्टिकर से बना एक कोलाज जिसमें एक बच्चे की कल्पना की उड़ान में अानेवाली तमाम तरह की चीज़ें थीं। नए रंग रोगन ने दीवार की कलाकारियों को तो मिटा दिया। लेकिन अलमारी का कोलाज हमने उतारा नहीं। एक स्कूलबस, कुछ जोड़ी जूते, एक लम्बी दूरबीन, बहुत सारी मछलियाँ। थोड़ा सा उन अनदेखे बच्चों को वहाँ रहने दिया। अौर शायद थोड़ा खुद को। अपना बचपन भी तो मैं शहरी अाबादी से बहुत दूर एक बड़े से चौक वाले मकान के किसी शांत कोने में छोड़ अाया था किन्हीं अौर अनदेखे लोगों द्वारा संभाले जाने के लिए।

_____

सिनेमा अापको चमत्कृत करने की कला है। सिनेमा हमें जादू की दुनिया में ले जाता है। सिनेमा हमारे लिए फंतासी की नई दुनिया रचता है। बीते साल भारतीय सिनेमा के शतक समारोह में हमने सिनेमा को लेकर इस तरह के भावुक वक्तव्य बहुत सुने जिनमें सिनेमा की अादिम चमत्कृत कर देने वाली कथाअों से निकला नॉस्टेल्जिया भरा था। हिन्दी सिनेमा ही नहीं, विश्व सिनेमा के संदर्भ में बात करते हुए इसका उल्लेख अाया कि सिनेमा में अपराधियों अौर तवायफों की इतनी पूछ की वजह यह है कि अपने स्वभाव से ही उस दुनिया की बात करता सिनेमा ज़्यादा अाकर्षण जगाता है जिसे हमने देखा नहीं, जाना नहीं। इसलिए सिनेमा सिर्फ सिनेमा नहीं हमारे लिए, वो एक नई दुनिया में खुलनेवाला रौशनदान है।

बेशक यह सिनेमा है अौर खूब सिनेमा है, लेकिन यह सिनेमा की सिर्फ एक परिभाषा है। किसी ने पूछा नहीं कि मान लो हम सड़क पर खड़े हैं अौर हमें अपने ही घर के भीतर झांकने के लिए एक खिड़की की ज़रूरत हो तो उसका पर्याय बने वो सिनेमा कहाँ है। याने कि इस बहुप्रचलित माध्यमरूप के परे सिनेमा का दूसरा रूप भी है जिसका चमत्कार हमारे जीवन का अौर उसकी साधारणता का हमशक्ल होने में है। यहाँ अविश्वस्नीय की चकाचौंध नहीं, लेकिन यह कथा में लिपटा दारुण यथार्थ भी नहीं। यह ज़िन्दगी है मेरी अौर अापकी जिसे हमारे सामने उल्था कर दिया गया है ज्यों का त्यों।

S O Tअानंद गांधी की ‘शिप अॉफ थिसियस’ हमारी ज़िन्दगी के इन्हीं सबसे साधारण लेकिन सिनेमा माध्यम पर पुनर्रचना के लिए सबसे दुर्लभ क्षणों को तीन सरल कहानियों के ज़रिये ज़िन्दा कर देती है। एक नेत्रहीन फोटोग्राफर, एक श्वेतांबर जैन भिक्षु अौर एक स्टॉक ब्रोकर। तीन किरदार अौर उनकी तीन ईमानदार दुविधाएं। नेत्रहीन फोटोग्राफर अालिया (अायदा-अल-काशेफ) जिसके लिए उसकी कला, अपने संसार से परिचय का द्वार है। लेकिन क्या यह परिचय का द्वार सम्पूर्ण है जिसे किसी अौर अनुभव से बदला नहीं जा सकता? किसी ज़्यादा प्रत्यक्ष अनुभव द्वारा भी नहीं? क्या अनुभव का प्रत्यक्ष स्वाद इतना नायाब है कि उसके लिए कला माध्यम द्वारा बनाया गया अनुभव तक पहुँचाने वाला यह अात्मीय द्वार दांव पर लगा दिया जाये? भिक्षु मैत्रेय (नीरज कबि) के जीवन के सवाल कहीं अपनी मान्यताअों अौर स्वयं के अस्तित्व के बीच चयन के सवाल हैं। अौर इससे अागे इसके भी कि सम्पूर्ण पर्यावरण को अपने अधीन समझने वाले मनुष्य का दरअसल अपने शरीर पर क्या अौर कितना हक़ होना चाहिए? अन्तिम कथा में ‘अपने व्यवसाय के अागे कुछ नहीं देखने वाला’ बताया गया एक जवान मारवाड़ी स्टॉकब्रोकर नवीन (सोहुम शाह) व्यक्तिगत जीवन में सत्य अौर ईमानदारी की तलाश में दूर तक जाता है अौर कुछ ऐसा हासिल करता है जिसके सहारे इस ‘पदार्थभोगी प्राणी’ के जीवन की व्याख्या हम ‘ज्ञानियों’ की नज़र में बदल जाये।

थिसियस के जहाज़ की कहानी एक सवाल के रूप में हमारे सामने है जिससे अानंद गांधी की फिल्म अपना शीर्षक ग्रहण करती है। अपने पदार्थ रूप में यह सवाल दार्शनिक भी है अौर अस्तित्ववादी भी। सवाल है कि अगर किसी जहाज में एक-एक कर नया पुरजा लगता चला जाये अौर सारे पुरजे उस वक्त तक बदलते चले जायें जब तक कि उसमें एक भी ‘मूल’ पुरजा मौजूद न रहे, तब भी क्या वो जहाज़ वही रहेगा? लेकिन गांधी की ‘शिप अॉफ थिसियस’ अादिम दर्शन का शास्त्रार्थ नहीं। इसके किरदार अापकी हमारी दुनिया के लोग हैं। समूची दुनिया है जिसमें दुनियादारी है, कारोबार है, घरेलू झगड़े हैं। छत्तीसगढ़ में गिरफ्तार हुअा एक मानवाधिकार कार्यकर्ता है अौर तंग गलियों वाले शहर में लम्बी कार कहाँ पार्क करें जैसी सनातन समस्याएं भी। लेकिन इससे अागे का भी कुछ है इस फिल्म में। यह हमारे जीवन के उन निजी अौर सार्वजनिक क्षणों को परावर्तित करती है जब हम ज़िन्दगी की निरंतर चलती अापाधापी में ठहरकर या किसी व्यक्ति, घटना, विचार द्वारा रोके जाने पर रुककर सोचते हैं – खुद इस ज़िन्दगी के बारे में। इसके होने के बारे में, खुद अपने होने के बारे में। हम सभी की ज़िन्दगी में यह क्षण अाता है। किसी के लिए सबसे पुराने मित्र के अचानक साथ छोड़ देने पर अाता है। किसी के लिए अतृप्त ज़िन्दगी की गाँठ खोल निकल जाने की अकेली डोर बनी नौकरी के चले जाने पर अाता है। किसी के लिए पहली संतान के जन्म पर अाता है। अौर किसी के लिए घातक बीमारी के होने न होने की अाशंकाअों के बीच अपनी टेस्ट रिपोर्ट का इन्तज़ार करती माँ की नज़रों के सामने बैठे अाता है।

यह भी एक खास तरह का जादू ही तो है जिसमें अाप यह भूल जाते हैं कि अाप अपनी देखी-जानी दुनिया में नहीं, जादू की दुनिया में हैं। अौर शायद परदे पर यह जादू रचना जो अापको सिनेमाहाल में होने का अहसास भुला दे, ज़्यादा मुश्किल है। इस फिल्म में तकनीक के तमाम चमत्कार हैं, ख़ासकर पहली कहानी में। लेकिन किसी निर्णायक क्षण में मौजूद ज़िन्दगी की साधारणता अौर उस साधारणता में छिपी अदम्य सुन्दरता को पकड़ने के लिए यह फिल्म सारे तामझाम छोड़ देती है। तीसरी कहानी में अस्पताल के भीतर दृश्य में सिर्फ दो किरदार मौजूद हैं। दो किरदार जिनका रिश्ता उन्हें अापस में जोड़ता है लेकिन जिनकी दुनियाएं शायद एक दूसरे के लिए लगातार अपरिचित होती जा रही हैं। लगता है जैसे बात करने के लिए कोई कड़ी भी नहीं बची। लेकिन फिर बिना किसी गतिशील कैमरा मोमेंट के रियल-टाइम में फिल्माया गया एक प्रसंग अाता है अौर हम ज़िन्दगी की नितांत साधारणता के महीन रेशों से निकलती सुनहरी अाभा को देखते हैं। अचानक बातचीत का सिरा जो टूट गया था, जैसे खुल जाता है। संवाद, जैसे तालाब के ठहरे पानी में फेंका पत्थर जिसके सहारे बनती विचार लहरें दोनों मस्तिष्क के समन्दरों में अनन्त निकल जाती हैं। अागे जो हम इन किरदारों की गति देखते हैं, उस परस्पर विरोधी संवाद से उपजी लहरें दूर तक जाती दिखाई देती हैं। यह उतना ही सामान्य लेकिन उतना ही अदम्य अनुभव है जिसे पाने के लिए पहली कथा के अन्त में अालिया अपना कैमरा वापस अपने झोले में रख लेती है।

S O Tकहीं गहरे यह तीनों कहानियाँ संवाद हैं। दो पात्रों के बीच संवाद अौर इस माध्यम से दो विचार प्रणालियों के बीच संवाद। लेकिन यह संवाद के बहुमुखी स्वभाव को उजागर करने वाली फिल्म भी है जिसमें हर संवाद दोनों सिरों पर मौजूद पात्रों को बदलता चलता है। वैचारिक रूप से गतिशील संवाद जहाँ अाप अपना पक्ष रखते हुए दूसरे पक्ष का विरोध करते हैं, लेकिन इस प्रक्रिया में अाप उस दूसरे तर्क से एक रिश्ता भी बनाते हैं। अौर फिर जब अाप अपने हिस्से के तर्क को झोले में समेटकर अागे निकल जाते हैं, पता नहीं चलता लेकिन दूसरा विरोधी तर्क भी अपना कटियातार डालकर साथ चला अाता है। अौर फिर किसी निर्णायक क्षण जब अाप अपने उसी झोले में से अपना पुराना माकूल तर्क निकालने के लिए हाथ डालते हैं, निकलता है वो विरोधी तर्क जो इस दरमियान अब अापका अपना हो गया है। वाद-विवाद से अागे संवाद एक परस्पर अादान-प्रदान की अन्योन्याश्रित प्रक्रिया है जिसमें लेन-देन दोनों अोर से होता है।

मुझे याद अाता है बीस के दशक के उन तूफानी अन्तिम दिनों में विचार अौर कार्य प्रणालियों के भिन्न धरातलों पर लेकिन विश्वास के इकसार मोर्चे पर खड़े भगतसिंह अौर गाँधी के बीच का संवाद। अौर उनके तमाम भविष्य के तर्क जिनमें उस संवाद के दौरान साथ चले अाये विरोधी तर्क की गूंज सुनाई देती है। यह मौलिक संवाद है जो अापको बदल देता है। हत्या में अंतिम इंसाफ ढूंढने वाला क्रान्तिकारी जनता के जागरण में अन्तिम उम्मीद देखने लगता है अौर एक अहिंसा का पुजारी साधु ‘करो या मरो’ जैसा उग्र नारा उछालता है। थोड़े से गांधी भगतसिंह की विचारसरणी में प्रवेश कर जाते हैं वहीं दूसरी अोर जाने के बहुत सालों बाद भी थोड़े से भगतसिंह विचार की तरुणाई बनकर गांधी के साथ रहते हैं हमेशा, उनकी उम्मीदों में। बीस के दशक का यह मौलिक संवाद दोनों सिरों पर मौजूद व्यक्तित्वों को हमेशा के लिए बदल देता है, अौर शायद हमारे महादेश की नियति को भी।

याद है वो जो बच्चों के सपनों का कोलाज नए घर की अलमारी पर छोड़ दिया था? हमारे घर की नई पीढ़ी का एक उत्साही बच्चा घर अाया एक दिन अौर उस कोलाज में उसे न जाने क्या कुछ दिखने लगा! एक बचपन ने निशान छोड़े अौर दूसरे ने उन्हें अपने सफ़री झोले में डाल लिया। अपनी सबसे प्राथमिक अवस्था में, संवाद शुरु हो गया है।

_____

मैं चाहता हूँ कि इस फ़िल्म का प्रसार भाषा की सीमाअों में बँधकर न हो। फिल्म का काफी हिस्सा अंग्रेज़ी में है। इसलिए नहीं कि निर्देशक ने माध्यम भाषा के रूप में अंग्रेज़ी को चुना बल्कि इसलिए कि फिल्म के कुछ किरदारों की पहली भाषा अंग्रेज़ी है अौर कहीं वह दो भिन्न पृष्ठभूमि के किरदारों के मध्य माध्यम भाषा बनती है हिन्दी की तरह। लेकिन किसी रास्ते से संभव हो तो इसे हिन्दी सबटाइटल के साथ भी जारी किया जाना चाहिए। बल्कि सबटाइटल के लिए मैं खुद इसका हिन्दी अनुवाद करने को प्रस्तुत हूँ। किसी सद्भावनाभाव से नहीं। इसलिए क्योंकि ‘शिप अॉफ थिसियस’ वो फिल्म है जिसे मैं अपनी माँ को दिखाना चाहूँगा।

4 Responses to “सुंदर का स्वप्न : शिप अॉफ थिसियस”

  1. Palash Shrotriya says:

    The review/analysis is as serene, poetic and satisfying as the film. And you nailed it with the last line. Thanks for the insight.

  2. रोचक समीक्षा, निश्चय ही दर्शनीय फिल्म है।

  3. यह मां को दिखाने वाली बात सही कही.

  4. Astha says:

    Mihir, your review meets the profundity of Ship Of Theseus with similar depth. It thus becomes a triumph of art. Beautifully moving pieces of work, both. Really touched. Thank you.

Leave a Reply